Our Anti-Sai Movement

Sai baba is not God Says Shankracharya

पिछले कुछ वर्षो से साईं विरोधी अभियान में कार्य कर रहे हमारे सभी मित्रो के लिए ये दिन काफी सुखद रहा, क्यूंकि अब द्वारका एवं बद्रीनाथ पीठ के शंकराचार्य आदरणीय जगतगुरु स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज ने हमारी इस मुहीम का समर्थन करते हुए साईं की पूजा और सनातन मंदिरों में साईं की मूर्ति की स्थापना को अमान्य बताते हुए निषेध कहा है, स्वामी श्री स्वरूपानंद जी महाराज ने मंदिरों में साईं की मूर्ति रखे जाने के साथ साथ, सनातनी देवी देवताओं के साथ साईं के नाम जोड़े जाने की घटना की घोर निंदा की है और इसे सनातन धर्म का अपमान तक बताया है,

Sai baba of shirdi is not God says Shankracharya swami Swarupanand saraswati

Sai baba of shirdi is not God says Shankracharya swami Swarupanand saraswati

Shankaracharya Swaroopanand Saraswati said that Sai Baba was someone “who used to eat meat and worshipped Allah, and a man like that can never be a Hindu god or can’t be worshipped in hindu temples.”

Shankracharya also claimed that the devotees of Sai Baba use pictures of sanatan dharm gods with sai and make money. “If they don’t use pictures of our god, who will give them money or anything,” he questioned. While he admitted that people have the freedom to worship, he said that Sai Baba tries to position himself as god which is not acceptable to them. “We accept only 5 gods. Anyone who positions himself as an addition isn’t acceptable to us,” he said.

Shankaracharya also rubbished claims that he has raised objection over Sai Baba at the behest of Congress. “It is wrong to say that I am doing this at the behest of Congress. I am not a political person,” he said.

सम्बंधित सभी खबर पढ़े: Zee News

Shankracharya says remove idols of sai baba from temples

Shankracharya says remove idols of sai baba from temples

जगतगुरु शंकराचार्य जी ने अपने एक भक्त के द्वारा यह पूछे जाने पर, की क्या वे साईं की कर सकते है, कहा की साईं की पूजा सनातन धर्म में मान्य नहीं है, और साईं का किसी वेद पुराण या शास्त्रों में वर्णन नहीं है, जब साईं का वर्णन ही सनातनी ग्रंथो में नहीं है तो किस आधार पर उसकी पूजा कीजाती है, यदि आस्था की बात करे तो फिर साईं को मानने वाले राम को क्यों पूजते है क्यूंकि साईं सत्चरित्र के अनुसार तो साईं ने रामनवमी के दिन भक्तो को मारा पिटा था और गन्दी गन्दी गालियाँ दी थी, ऐसी स्थिति में आदि गुरु के इस कथन के बाद साईं मंदिरों से भक्तो की भीड़ घटने लगी है और साथ ही सैकड़ो मंदिरों से साईं की मूर्तियाँ हटाने का क्रम शुरू हो गया है,

He said his campaign to protect the Hindu religion was being opposed by those who had made religion a means of livelihood.

Union Minister of water resources Uma Bharti’s letter to Swami Swaroopanand explaining the rationale behind her statement on Saturday where she had said looking upon someone as a god was people’s personal opinion was also read out at the meeting.

Bharti’s explanation did not seem to satisfy the seer Shankaracharya who said she seemed not to have seen the pictures where Sai Baba has been depicted like Hindu Gods including Shiva and Vishnu.

“Statues of Sai Baba were being installed in homes. What if they were installed in our temples?” he asked. He said when Uma Bharti became a minister at the Centre he thought a devotee of Rama had become a union minister and a Ram temple in Ayodhya would soon be a reality but he was mistaken as she turned out to be the “worshiper of a Muslim”. Swami Premanand went so far as to even demand Bharti’s resignation over the issue.

Sh. Shankracharya statement on sai baba of shirdi

Sh. Shankracharya statement on sai baba of shirdi

इस प्रसंग के बाद जहाँ एक और हमारे अभियान को बल मिला है वही ये बात भी सिद्ध हुई है की केवल मार्केटिंग के नाम पर प्रचार तंत्र के सहारे किसी को भी भगवान् बनाने की प्रवृत्ति अंत में सनातन धर्म का नाश ही करेगी, हम आरम्भ से ही ये कहते रहे है की साईं का चरित्र इतना उत्तम नहीं है की वो मंदिरों में पूजने योग्य हो, साईं बाबा जो मांस खाते थे, बीडी तंबाकू का सेवन करते थे, जो औरतो को गालियाँ देते थे, जो मस्जिद में बकरे हलाल करते थे, जो गंगा का अपमान करते थे, जो प्रसाद में मांस मिला कर देते थे, जो मांस मछली का सेवन करते थे, जो रामनवमी के दिन भक्तो को मारते पिटते थे, जो हर छोटी बात पर गुस्सा करते थे थे, ऐसे दुश्चरित्र वाले साईं बाबा के विरुद्ध शंकराचार्य जी का सामने आना इस अभियान और सनातन धर्म दोनों की रक्षा के लिए बहुत ही शुभ संकेत है,

 केवल २४ अवतारों की पूजा शास्त्रों में मान्य:

द्वारका एवं बद्रीनाथ पीठ के शंकराचार्य श्री स्वरूपानंद जी ने आज कहा की शास्त्रों में केवल 24 अवतारों के अतिरिक्त अन्य किसी भी पूजा अमान्य है और जो लोग उनका विरोध कर रहे है वो प्रमाणित करे की साईं की पूजा शास्त्रों के अनुकूल है, उन्होंने कहा की साईं बाबा मुस्लिम थे और इसलिए साईं को पूजना एक प्रकार से हिन्दुओ के इस्लामीकरण करने का षड्यंत्र और सनातन धर्म को नष्ट करने का कुचक्र है जिससे हिन्दू समाज को बचना चाहिए,

“We are okay with whatever idol they choose to worship. But if they place the idols of our Gods at the feet of Sai Baba, it is unacceptable to us,” said Shankaracharya supporter Swami Narendra Giri.

Shankaracharya: Sai Baba was a Muslim, should not be worshipped like a Hindu deity

Refusing to budge from his stand on Shirdi Sai Baba, Shankaracharya Swami Swaroopanand on Sunday described him as a Muslim ascetic who could not be worshipped like a Hindu deity and said his campaign to protect the Hindu religion will continue even if he is sent to jail.

“They may burn my effigy or even send me to jail, but my campaign to protect the sanctity of the Hindu religion will continue,” Shankaracharya said addressing a meeting of the central working committee of Bharat Sadhu Samaj at Kankhal on Sunday. “Sai Baba was a Muslim ‘Fakir’ who cannot be compared to Hindu deities or worshipped like them,” he said.

Accusing certain forces of “corrupting” the Hindu religion by arbitrarily creating new gods and propagating them, the Jyotishpeethadhishwar Shankaracharya said the Hindu religion needs to be guarded against such forces.

 

साईं संस्थान शिर्डी को धर्म संसद में न्यौता:

जगतगुरु शंकराचार्य जी ने आगामी 24 अक्टूबर को छतीसगढ़ के कवर्धा में धर्म संसद का आयोजन किया है जिसमे उन्होंने सभी पीठो के महंत, अखाड़ो को, महामंडलेश्वरो को, काशी विद्वत परिषद् के साथ साथ देश के शीर्ष संतो और साथ ही इस पुरे विवाद की जड़ में काम कर रही साईं संस्थान शिर्डी को भी बुलाया है, शुरू में स्वामी स्वरूपानंद जी के पुतले फूंके और उन्हें अपशब्द कहने वाले शिर्डी संस्थान के लोगो के तेवर कुछ ढीले पड़ गए है

shankracharya ji invitation to shirdi sai sansthan

शंकराचार्य जी के प्रतिनिधियों ने साईं संस्थान शिर्डी को स्वामी स्वरूपानंद जी का न्योता भेंट किया और प्रेस वार्ता में कहा की आगामी धर्म संसद में आकर साईं सस्थान वाले अपना पक्ष रख सकते है,
Shirdi, Maharastra: Dwarka Peeth Seer Shakaracharya Swami Swarupanand Saraswati has sent an invitation to the Shri Sai Baba Sansthan Trust, Shirdi to participate in the ‘Bruhad Dharma Sansad’.

A delegation on behalf of the seer that arrived in Shirdi on August 10 and handed over the invitation to the deputy executive officer of Shri Sai Baba Sansthan Trust, Shirdi Appasaheb Shinde. The invitation extended to the trust is to attend the two day meeting — Dharma Sansad, to be held at Kabirdham in Kavardha district of Chhatisgarh on August 24-25, and present their views.

Only some time back, Shankaracharya Swami Swarupananda Saraswati’sremarks against Sai Baba and the trust had raked a controversy till the devotees of Sai Baba decided to ignore the remarks.

Speaking to the media, Vidyanand, a member of the seer’s delegation, said that they had come to Shirdi on behalf of Swami Swarupananda to end the controversy following the remarks by the Shankaracharya. “Swami Swarupananda himself has sent us to end this dispute and has urged the Sansthan Trust to attend the two-day Dharma Sansad and present their views. The meet will be attended by Swami Swarupananda himself, Shankaracharyas of Shringeri and Puri Peeth and other seers,” Vidyanand said.

While the delegation met the officials of the trust and spoke to the media, they did not visit the temple. When asked about it, Vidyanand replied. “We are here to perform the duty assigned by my Guru (Shakaracharya Swami Swarupanand), which we have done. God is everywhere,” he exhorted.

While the police beefed up security during the delegation’s visit, it was informed that the delegation members did not visit the temple only to avoid a possible uproar by devotees and any chaos thereafter.

Public Relations Officer of Shri Sai Baba Sansthan Trust, Shirdi Mohan Yadav, said that the delegation from Swami Swarupanand including Vidyananda has given the invitation for two-day Dharma Sansad and it has been accepted by Sansthan’s deputy executive officer Appasaheb Shinde. The invitation will be placed before three-member-committee of the Sansthan Trust to decide on it, Yadav said. – DNA, 12 August 2014

 

साईं भक्तो की शर्मनाक हरकत:

शंकराचार्य स्वामी श्री स्वरूपानंद जी के द्वारा साईं बाबा की पूजा को सनातन धर्म में अमान्य बताने के बाद साईं भक्तो ने सभी मर्यादाओं की धज्जियाँ उड़ाते हुए उनके पुतले फूंके और उनकी प्रतिमाओं के साथ दुर्व्यवहार किया, किसी भी सभ्य समाज में ऐसी कोई भी घटना शर्मनाक है क्यूंकि एक और जो कुछ भी आदि गुरु ने कहा है वो पूर्णत: धर्म संगत और शास्त्र सम्मत बात कही है पर साईं बाबा के अंधभक्तो ने जिस प्रकार से उनके पुतले फूंके और अपनी मुर्खता का परिचय दिया उसी से पता चलता है की साईं नाम का घुन सनातन धर्म में किस प्रकार ससे जड़ें जमा चूका है,

shankrachary Vs sai

shankracharya Vs sai

इस विरोध प्रदर्शन में मुस्लिम भी पीछे नहीं है, साईं संस्थान, शिर्डी में निकली एक विरोध रैली की अगुवाई एक मुस्लिम महिला ने की, इसी से पता चलता है की मुस्लिम संगठनो द्वारा जान बुझ कर परदे के पीछे से साईं का समर्थन किया जा रहा है वरना क्या कारण है की राम को गालियाँ देने वाले, राम मंदिरों का विरोध करने वाले साईं को पूज रहे है, जिन्होंने अपनी मस्जिदों में कभी साईं को नहीं बिठाया वो अब सनातन धर्म में मिलावट का विरोध करने वालो का ही विरोध कर रहे है,

After Shankaracharya Swaroopanand Saraswati had said that Hindus should not worship Shirdi Sai Baba along with other Hindu gods, the Sai temple in Lucknow filed a petition in Allahabad High Court seeking an FIR against him. The court will hear the case on Friday. A case has also been filed against Shankaracharya Saraswati in Jaipur.

The Naga seers have also sided with Shankaracharya. The Nagas have said if Shankaracharay is insulted they will take to the streets in protest. The Naga sadhus have also called the issue a religious war. However, Shankaracharya has claimed that he hasn’t asked the nagas to fight with him. “I haven’t asked nagas to come to fight with me but if they want to then they should. This is a religious war (dharmayudh),” he said.

 

Update:

आगामी महीने अगस्त में 24 व 25 को आयोजित होने वाली धरम संसद के लिए सभी धर्म गुरुओ, अखाड़ो, काशी विद्वत परिषद्, आचार्यो, महामंद्लेश्वारो ने कमर कस ली है, इस धर्म संसद का मुख्य उद्देश शिर्डी साईं बाबा के ऊपर अंतिम निर्णय और उनकी पूजा को लेकर होगा, छतीसगढ़ के कवर्धा में होने वाली इस धर्म संसद में लाखो लोगों के जुटने की आशा है, धर्म संसद में सनातन धर्म में फैलते पाखंड और साईं के कारण धर्म में उपजी विसंगतियों को दूर करने के उपाय भी खोजे जायेंगे

धर्म संसद में उमड़े धर्मप्रेमी

शंकराचार्य स्वामी श्री स्वरूपानंद जी के आह्वान पर आयोजित कवर्धा मे धर्म संसद में पहले दिन हजारो धर्म प्रेमी उमड़े, जगतगुरु के दर्शन स्वरूप एवं उनके समर्थन में उमड़ी भीड़ से ही ये अनुभव किया जा सकता है की शिर्डी के साईं के विरुद्ध चल रहे इस अभियान में हिन्दूओ ने अपना समर्थन दिया है और सनातन धर्म के सच्चे अनुयायी अब साईं बाबा के खिलाफ चल रहे इस आन्दोलन में अपना साथ देंगे, धर्म संसद में उमड़ी इस भीड़ के बाद साईं संस्थान के द्वारा कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई है परन्तु मीडिया द्वारा इस अभियान में आरम्भ से ही जिस प्रकार से साईं संसथान का साथ दिया जा रहा है,

Sai Baba should not be worshipped as deity, says Dharma Sansad

A two-day-long Dharma Sansad convened by the Shankaracharya Swami Shree Swaroopanand Saraswati of Dwarka and Badrinath Peeth Monday passed a resolution in Kawardha that Sai Baba, a muslim faqir of shirdi in 19th century, should not be worshipped as a deity by the followers of Sanatan Dharma.

Kashi Vidvat Parishadhas taken a decision that Sai Baba was neither a god nor a guru, therefore he cannot be worshipped, Rajesh Joshi, the media in-charge for the Dharma Sansad (religious conclave), which was held in Chhattisgarhs Kabirdham district said.

Sai Baba should not be worshipped as deity, says Dharma Sansad

Representatives of 13 Akharas and other religious leaders discussed the issue Resolutions on other issues, including introduction of Hindu scriptures in school curriculum, making the country free of addiction, safety of women, construction of Ram Mandir in Ayodhya, protection of cows, etc. Were also passed, Joshi said.

Backing Dwarka Peeth Seer Swami Swaroopanand Saraswati, a Dharma Sansad on Monday [August 25, 2014] adopted a resolution declaring Sai Baba, the 19th century mystic, was neither God nor a guru and hence cannot be worshipped and placed among Hindu Gods.

“Dharma Sansad has adopted many resolutions, including one which stated Sai Baba cannot be worshiped as God. Kashi Vidyat Parishad will soon make a formal announcement on the decisions taken by Dharma Sansad”, spokesman Rajesh Joshi told TOI.

He said Dharma Sansad adopted many resolutions, including pressing demand for a total ban on cow slaughter, purification and preservation of Ganges, introduction of Gita, Ramayan and Mahabharata in school syllabus, early construction of Ram temple at Ayodhya.

During the course of discussions sadhus from many akhadas or monasteries strongly backed the 90-year-old pontiff, who had sparked a controversy with statements against worshiping Sai Baba. The seer asked his followers to remove Sai Baba’s photographs and idols from temples where he gets the pride of place with Hindu deities.

Niranjini Akhada’s Sadhu Narendra Giri said devotees of Sai Baba should remove Sai Baba’s idols from temples and immerse them in Ganges to prevent forcing sadhus from doing it.

There has been tension at the venue for a while when three people, claiming to devotees of Sai Baba, reached and opposed the resolution and demanded an opportunity to speak out. One of the Sai devotee Manushya Mitra was pushed around at the venue as he started speaking out saying sadhus and saints were hesitant to go on hunger strike to enforce a total ban on cow slaughter and protection of holy river Ganges but were talking against Sai Baba.

Later, Mitra told reporters he feared threat to his life. However, those associated with Dharma Sansad said three Sai devotees came on their own in their personal capacity and were not deputed by Sai Baba Trust.

A heavy police contingent was deployed at the Dharma Sansad venue where more than 300 sadhus and saints had assembled to discuss the Sai Baba controversy. However, Shri Sai Baba Sansthan, Shirdi and its representatives kept aloof as Sai devotees had earlier decided to ignore the controversy. – The Times of India, 26 August 2014

धर्म संसद में एकमत से प्रस्ताव पास किया गया है की साईं बाबा न तो गुरु है और न ही भगवान्, इसलिए उनकी पूजा सनातन धर्म के विरुद्ध है, काशी विद्वत परिषद् ने इस सम्बन्ध में साईं की पूजा को सनातन धर्म में निषेध बताया और इसके पक्ष में शास्त्रों के प्रमाण दिए, साईं संस्थान द्वारा इस धर्म संसद में आने पर भी सवाल उठ रहे है की क्या संस्थान इस विषय में शास्त्रों के आधार पर वाद-विवाद से बच रहा है, क्या उन्हें इस बात का अआभास हो चूका था की धर्म संसद में जाने के बाद उनके पास कुछ नहीं रहेगा क्यूंकि उनके पास इस बात का प्रमाण ही नहीं है की साईं भगवान् है या नहीं,

चूँकि इस प्रस्ताव के बाद कई मंदिरों से साईं की प्रतिमा, मूर्तियाँ हटनी शुरू हो चुकी है, कई लोगों ने भी साईं की प्रतिमा अपने घरो से निकाल कर बाहर करनी शुरू कर दी है

sai idols from temples removed by ex-devotees of sai

 

Gujarat Temple to Remove Sai Idol after Shankracharya;s Question on Sai baba

Priests at an ancient Shiva temple in South Gujarat have decided to remove a Sai idol from the temple complex following Dwarka Peeth Shankaracharya Swami Swaroopanand Saraswati’s controversial claim that Hindus should not worship deified figures. “We totally accept and agree with Swami Swaroopanandji.

Going by the Vedic Sanatan dharma, Sai Baba cannot be considered a God. And then, there are no documents and writings as a matter of evidence to establish him as a deity,” Shivji Maharaj said. “Our temple goes by the directives of the Shankaracharya who heads the Sanatan dharma.”

Sai Idol Removed by Hindu mahasabha in deorahi temple UP

Sai Idol Removed by Hindu mahasabha in deorahi temple UP

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद जी एवं धर्म संसद के आदेश के बाद मंदिरों से साईं की मुर्तिया हटाने का कार्य शुरू हो चूका है जिसके बाद गाजियाबाद के मंदिर से साईं की मूर्ति हटा दी गयी, ऐसी ही एक और घटना गुजरात के वलसाड में हुई जहाँ पर एक प्राचीन शिव मंदिर से साईं की मूर्ति को हटा दिया

Sai idol removed from baitul Madhya Pradesh

Sai idol removed from baitul Madhya Pradesh

Sai Idol Reoved in Ghaziabad UP

Sai Idol Reoved in Ghaziabad UP

इसी कड़ी में उत्तराखंड के देहरादून से भी सनातन मंदिर से साईं की मूर्ति हटाने की बात सामने आई है, इसी क्रम में कई अन्य मंदिरों ने साईं की मुर्तिया हटा कर शंकराचार्य जी के कहे अनुसार साईं की मूर्तियाँ हटानी शुरू कर दी है

Sai Idol Reoved in Dehradun Uttarakhand

Sai Idol Reoved in Dehradun Uttarakhand

मीडिया द्वारा साईं विवाद में साईं संस्थान का पक्ष क्यों?

साईं विवाद के बाद जगतगुरु शंकराचार्य के विरोध में जिस प्रकार से देश के मीडिया ने भेदभाव की नीति अपनाते हुए साईं के समर्थन में अपना पक्ष रखना शुरू कर दिया उससे मीडिया की विश्वसनीयता पर प्रशन खड़े होने शुरू हो गए है, मीडिया द्वारा एकपक्षीय वार्ता के कारण साईं के विरोध में जो स्वर खड़े हुए थे उसमे अब रोक लग्न स्वाभाविक है क्यूंकि मीडिया एक प्रकार से साईं स्थान के एजेंट के रूप में कार्य कर रहा है, ये वही मीडिया है जिसने सनातन धर्म के संतो के विरुद्ध दुष्प्रचार किया, परन्तु साईं सत्चरित्र में हजाओ विसंगतियां और साईं बाबा के चरित्र के विषय में नए नए खुलासे होने के बाद भी मीडिया एक प्रकार से साईं संसथान की निजी संस्था के रूप में कार्य कर रहा है जिससे स्पष्ट हो गया है की मीडिया में बैठे साईं भक्त या तो अपने प्रभाव से जनता को साईं के विषय में झूठी बाते बता कर उन्हें भ्रमित कर रहे है व् शंकराचार्य जी के विरुद्ध भड़का रहे है या उन्हें साईं संस्थान से पैसा मिल रहा है

sai-media

साईं व् शंकराचार्य विवाद में मीडिया में हो रही डिबेट से यही प्रतीत होता है की साईं संस्थान ने मीडिया पर अपना प्रभाव जमाया हुआ है, इसी मीडिया ने पहले साईं को महिमामंडित किया था और आज यही साईं को बचाने के लिए आखिरी दांव खेल रहे है जो पत्रकारिता पर कलंक है, निष्पक्ष पत्रकारिता पर ऐसे पत्रकार एक बदनुमा दाग है जो पत्रकारिता जैसे पवित्र कार्य को बदनाम कर रहे है,

इस कार्य में केवल कुछ गिने चुने मीडिया हाउस नहीं बल्कि अधिकतर मीडिया चैनल साईं का पक्ष लेते हुए प्रतीत होते है! मीडिया द्वारा आयोजित साईं की डिबेट में साधू संतो के साथ साईं भक्त भी बुलाये जाते है पर पत्रकार केवल साधू संतो से ही तीखे प्रशन करते है ऐसी ही एक डिबेट में तो जी न्यूज़ के पत्रकार सुमित अवस्थी दिल्ली में हुई एक लाइव डिबेट में साईं का पक्ष लेते हुए दिखे जब एक व्यक्ति द्वारा साईं सत्चरित्र पर प्रशन उठाया गया तो सुमित अवस्थी द्वारा साईं सत्चरित्र को सिरे से नकारना और साईं के विषय में उल्टा उस व्यक्ति से प्रशन करना सर्वथा अनुचित कार्य था जबकि इसी डिबेट में साईं भक्तो से न तो प्रशन किये गए और न ही उनके उत्तर पर उलटे प्रशन किये गए,

हमारा उद्देश्य है पक्षपात किये बगैर सत्य को सामने लाना और यही कार्य देश के पत्रकारों का है जो अपने कर्तव्य को भूल कर या तो अपनी निजी आस्था के अनुसार ही साईं बाबा का पक्ष ले रहे है या फिर उन्हें संस्थान से इसके एवज में कुछ मिला है, चाहे जो भी जो एक पत्रकार ऐसे समय में न साईं भक्त होता है और न ही शंकराचार्य भक्त, ऐसे समय में मीडिया व् पत्रकारों को अपने व्यक्तिगत विचारों से हट कर सत्य को जनता के सामने रखना पड़ता है जो इस समय बिलकुल नहीं हो रहा है, अत: मीडिया व् साईं संस्थान के इस सम्बन्ध के ऊपर से रहस्य का पर्दा हटना ही चाहिए, क्यूंकि सत्य की सदैव विजय होती है,

1 thought on “Our Anti-Sai Movement”

  1. Mukesh Kumar said:

    जय श्री राम
    जय श्री कृष्ण

    जय सनातन धर्म

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 8,576 other followers